राहुल गांधी ने कोरोना की तीसरी-चौथी लहर रोकने के लिए सरकार को दिए चार सुझाव, कहा- अभी से करनी होगी तैयारी

आईआईएमटी न्यूज डेस्क, ग्रेटर नोएडा




कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कोविड महामारी की स्थिति को लेकर मंगलवार के दिन पार्टी की तरफ से एक ‘श्वेत पत्र’ जारी किया। साथ ही कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने केंद्र सरकार से आग्रह किया कि कोरोना की तीसरी लहर आने से पहले मोदी सरकार को अभी से तैयारी शुरू कर देनी चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि तीसरी लहर का आना तय है। पार्टी द्वारा श्वेत पत्र जारी करते हुए राहुल ने बताया कि हमारा मकसद सरकार को सही रास्ता दिखा और केंद्र अपनी गलती सुधारे। पत्रकारों से मुखातिब होते उन्होंने कहा के देश के वैज्ञानिको ने सरकार को पहले चेताया था कि कोरोना की दूसरी लहर आएगी लेकिन सरकार ने उसे अनसुना कर दिया। साथ ही दूसरी लहर में जिन्हें बचाया जा सकता था उन्हें नहीं बचाया जा सका। दूसरी लहर के दौरान संसाधनों के अभाव के कारण 90 प्रतिशत मौतें हुई। सरकार की लापरवाही से लाखों की जान गईं, करोड़ों लोग कोरोना से प्रभावित हुए। क्योंकि अस्पतालों में बेड्स की कमी, ऑक्सीजन की कमी दूर करने के लिए सरकार ने कोई तैयारी नहीं की थी। अब तीसरी लहर, चौथी लहर आने की संभावना है। पूरा देश जानता है कि तीसरी लहर आने जा रही है, ऐसे में सरकार को पहले से इसकी तैयारी करनी चाहिए। वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने आगे कहा कि हम सरकार के लक्ष्य पर सवाल नहीं उठा रहे हैं। लेकिर मोदी सरकार को चार बिंदुओं पर काम करना पड़ेगा। पहला बिंदु तीसरी लहर की तैयारी है। दूसरा बिंदु कि गरीबों, छोटे व्यापारियों को आर्थिक मदद दीजिए। तीसरा यह कि कोविड मुआवजा कोष बने। चौथा बिंदु पहली और दूसरी लहर की गलतियों के कारणों का पता लगाया जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि आगे यह गलतियां नहीं हों। एक दिन में रिकॉर्ड टीकाकरण पर ने तारीफ करते हुए कहा कि 'वैक्सीनेशन की कल से अच्छी शुरुआत हुई, लेकिन केवल एक दिन ही नहीं हर रोज बड़ी संख्या में टीके लगना चाहिए। बता दें कि बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ लगातार हमलावर हैं।